कालियादेह महल, उज्जैन

कालियादेह महल

यह एक प्रतिष्ठित ऐतिहासिक स्थानों में से एक है, इसका निर्माण 15वीं शताब्दी में मांडू के सुल्तान ने करवाया था। यह शिप्रा नदी के बीच एक द्वीप पर बना हुआ है माना जाता है पिंडारियों के हाथो बर्बाद होने के बाद 1920 मे माधवराय सिंधिया ने पुनः निर्माण कराया था। MP टूरिज्म के अनुसर यह सबसे ज्यादा देखे जाने वाले स्थानों में से एक है।

पर्यटन स्थल

इस पैलेस के किनारे शिप्रा नदी बहती है इसलिए यहाँ का नजारा बहुत सुंदर होता है यहाँ पर लोगो का आना जाना लगा रहता है।

52 कुण्ड
कलियादेह पैलेस मे 52 छोटे – छोटे कुंड है जिनमें शिप्रा नदी का पानी एक-एक करके 52 कुंडो में से होकर निकलता है। माना जाता है की 15वीं शताब्दी में 52 कुंडो का निर्माण पानी को ठंडा करने के लिए किया गया था जिसमे पानी एक- एक करके 52 कुंडो में से होकर गुजरने के कारण पानी में शीतलता आ जाति थी।

सूर्य मंदिर
इस पैलेस में सूर्य मंदिर भी स्थिति है जिसमें सूर्य भगवान की प्रतिमा रखी हुई है और यहाँ सूर्य भगवान की पूजा होती है।

शनि मंदिर
इस पैलेस में शनि मंदिर भी है जिस में शनि भगवान की प्रतिमा राखी हुई है और यहां शनि भगवान की पूजा होती है

अगर आप लोग यहाँ आना चाहते हैं तो यह उज्जैन शहर से लगभाग 11 किलोमीटर की दुरी पर है।

Booking.com

Leave a Comment

Your email address will not be published.