QUICKXPLORE

Bada Ganpati Mandir, Indore


भगवान गणेश जी की आराधना किए बिना जीवन में कोई मांगलिक कार्य नहीं हो सकता है।
इंदौर के ऐसे प्राचीन मंदिर में जहां मौजूद भगवान गणेश की प्रतिमा ना केवल इंदौर में न केवल मध्यप्रदेश में न केवल भारत में बल्कि समूचे एशिया में सबसे बड़ी सबसे वजनदार मूर्ति है। यहाँ पता चलता है कि भगवान गणेश हमारे साथ मौजूद है इंदौर के पर्यटन आकर्षण में धार्मिक स्थल है इंदौर का बड़ा गणपति मंदिर।

बड़ा गणपति मंदिर

हिंदू मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री गणेश सभी देवों में प्रथम पूज्यनीय है सबसे पहले पूजे जाने वाले मंगलमूर्ति श्री गणेश का यह मंदिर हिंदुओं की आस्था की पहचान बन गया है।

यह विशाल गणेश प्रतिमा सीमेंट की नहीं वरन ईंट, चूने, रेत और बालू रेत में गुड़ व मैथीदाने का मसाला मिलाकर बनाई गई है। इसमें समस्त तीर्थों का जल और अयोध्या, मथुरा, माया, काशी, काँची, उज्जैन और द्वारका इन सात मोक्षपुरियों की माटी मिलाई गई। निर्माण लगभग ढाई वर्ष में पूर्ण हुआ।

संवत 1961 माघ सुदी चतुर्थी (संकष्टी) को मूर्ति का प्राण प्रतिष्ठा की गई। मूर्ति की ऊँचाई चरणों से मुकुट तक 25 फुट और चौड़ाई 16 फुट है। मूर्ति चार फुट ऊँची चौकी पर विराजमान है। इस मूर्ति के दर्शन करने देश-विदेश से लोग आते हैं। गणेश चतुर्थी पर तो इस मंदिर में खासी भीड़ देखी जा सकती है। दिलों को सुकून देने वाली यह गणेश प्रतिमा सभी की चिंताओं का हरण करके लोगों को सुख‍ी और समृद्ध बनाती है।

विश्व की सबसे ऊँची और विशाल गणेश प्रतिमा के बतौर बड़े गणपति की ख्याति है। शहर के पश्चिम क्षेत्र में मल्हारगंज के आखिरी छोर पर ये गणेश विराजमान हैं। इन्हें उज्जैन के चिंतामण गणेश की प्रेरणा से नारायण दाधीच ने 120 वर्ष पूर्व बनवाया था।

श्री गणेश के इस अनन्य भक्त को 16 साल की आयु में स्वप्न में विराट गणेश के दर्शन हुए और वह मनोहारी विराट रूप उनके मन में बस गया और एक धुन लग गई उसे साकार करने की।

इसी साधना के सिद्धि की उम्मीद लिए नारायणजी हर बुधवार को उज्जैन से चार किलोमीटर दूर पैदल चलकर चिंतामण गणेश जाकर भगवान से याचना करते रहे। उन्हें इंदौर आना पड़ा जहाँ उनका यह स्वप्न साकार हुआ। बोंदरजी पटेल ने सौ वर्गफुट भूमि की रजिस्ट्री 42 रुपए 2 आने में करवा दी।

Savandurga Trek

Savandurga Trek

JSMay 5, 20221 min read

The Savandurga trek is considered to be among the largest monolith hills in Asia. It is located 60 km away from Bengaluru in the Savandurga state forest, this trail is famous for its challenging climb and amazing views of Magadi,…


Lalbagh Botanical Garden, Bangalore

Lalbagh Botanical Garden, Bangalore

JSMay 14, 20222 min read

Lalbagh is one of the oldest botanical gardens in India and is also a major tourist attraction in Bangalore and is a nationally and internationally renowned center for botanical artwork, scientific study of plants, and also conservation of plants. A haven…


Panna: A Tourist’s Paradise for History Buffs, Nature Lovers, and Culture Seekers

Panna: A Tourist’s Paradise for History Buffs, Nature Lovers, and Culture Seekers

JSJan 26, 20235 min read

Panna, located in the Indian state of Madhya Pradesh, is a destination that offers a unique blend of history, culture, and nature. The district is known for its rich mineral resources, forests, and the Ken river. It is also home…


Bhimbetka Rock Shelters

Bhimbetka Rock Shelters

JSApr 21, 20222 min read

Overview The Rock Shelters of Bhimbetka are in the foothills of the Vindhyan Mountains on the southern edge of the central Indian plateau. Within massive sandstone outcrops, above comparatively dense forest, are five clusters of natural rock shelters, displaying paintings…


कुँआताल मेला (Kuatal Mela), बनौली

कुँआताल मेला (Kuatal Mela), बनौली

JSApr 13, 20221 min read

कुँआताल मेला (Kuatal Mela), पन्ना जिले के सिमरिया क्षेत्र की बनौली पंचायत में, कंकाली माता के दरवार में हर वर्ष लगता है. यह मेला बुन्देलखण्ड का सबसे अधिक भीड़ वाला प्रसिद् मेला है, जो चैत्र नवरात्रि में हर वर्ष लगता…



Scroll to Top